Menu
header photo

 THE FIT HEART 

The Way To A Healthy Heart

एंजियोप्लास्टी के बाद के प्रश्न

  1. मुझे अस्पताल से कब छुट्टी दी जाएगी?

          इस सवाल का कोई निश्चित जवाब नहीं है !! यह निम्नलिखित कारकों पर निर्भर करता है:

  • एंजियोप्लास्टी किन परिस्थितियों में की गई थी। यदि इसे एक आपात या इमरजेंसी प्रक्रिया के रूप में किया गया था, जबकि आपको दिल का दौरा हुआ था, तब आपको लंबे समय तक रहना पड़ सकता है। लेकिन अगर यह तब किया गया था जबकि आपकी परिस्तिथि स्थिर थी, तो आपको 48 घंटों में छुट्टी मिल सकती है।
  • एंजियोप्लास्टी के दौरान अगर कोई दुर्घटना घटी थी। अगर एंजियोप्लास्टी के दौरान, रक्तचाप या ब्लड प्रेशर का कम होना, दिल की रक्त वाहिनियों को नुकसान होना, एंजियोप्लास्टी की जगह से काफी खून बाह जाना, लकवा होना, ह्रदय के लय की असामान्यताएँ, संक्रमण (इन्फेक्शन) होना इत्यादि तरह की कोई दुर्घटनाएं हुई हो, तब भी आपको लंबे समय तक अस्पताल में रहना पड़ सकता है। लेकिन अगर ऐसा कुछ न हुआ हो तब आपको 48 घंटे से छुट्टी मिल जाने की संभावना है।
  • आपकी तबियत कैसी है।  आप अगर आप बहुत बीमार हैं तब भी आपको लंबे समय तक अस्पताल में रहना पड़ सकता है।

इस तरह छुट्टी के समय का निर्णय चिकित्सक द्वारा इन सभी बातों के हिसाब से लिया जाता है और इसका कोई निश्चित नियम नहीं हैं। एक निश्चित उत्तर के लिए अपने डॉक्टर के साथ बात करें।

 

  1. मुझे घर जाने के बाद किन बातों की परवाह करनी चाहिए?
  • दवाएं बराबर लें। अपनी सभी दवाएं, आपके ह्रदय विशेषज्ञ द्वारा बताएं अनुसार नियमित रूप से ले, भले ही आपको कोई शिकायत न हो। अपने ह्रदय विशेषज्ञ से पूछे बिना कोई भी दवा बंद ना करें।
  • रक्तस्त्राव की जाँच करें। त्वचा पर एंजियोग्राफी की जगह (कलाई या कमर पर) और आसपास के क्षेत्रों पर नजर रखें। अस्पताल छोड़ने के बाद वहाँ से आपको रक्तस्त्राव (खून बहना) या सूजन नहीं होना चाहिए। लेकिन यदि ये होता है, तो उस जगह को दबाकर रखें, अपने डॉक्टर फ़ोन करें और जितनी जल्दी हो सके अस्पताल में लौटें।
  • संक्रमण (इन्फेक्शन) या एलर्जी (त्वचा पर लाल चकत्ते/दाने) होने पर डॉक्टर से मिलें। संक्रमण एंजियोप्लास्टी के बाद अत्यंत दुर्लभ है, लेकिन अगर आपको त्वचा पर एंजियोग्राफी की जगह के आसपास लालिमा, गर्माहट या मवाद नज़र आएं या एलर्जी जैसा लगे तो इसकी रिपोर्ट तुरंत अपने डॉक्टर से करें।
  • भारी और थकाने वाले कार्यों से बचें। शुरू में आपको लगभग एक सप्ताह के लिए भारी गतिविधियों से बचने की जरूरत है। फिर धीरे धीरे अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार अपनी क्षमता बढ़ाएं। अपने चिकित्सक से पूछें कि कब आप सामान्य गतिविधि फिर से शुरू कर सकते हैं जैसे वापस काम पर जाना या भारी सामान उठाना इत्यादि।

 

     3. अपने ह्रदय विशेषज्ञ को दिखाने के लिए मुझे कब जाना चाहिए?

अलग-अलग डॉक्टर, अलग-अलग प्रोटोकॉल/कार्यक्रम का पालन करते हैं, इसलिए एंजियोप्लास्टी के बाद डॉक्टर को मिलने आने के समय लिए उनसे ही सलाह लें।  वैसे एंजियोप्लास्टी होने के पश्चात् करीब सात दिनों के बाद मिलने आना भी एक उचित विकल्प है। इस सात दिन बाद वाली मुलाकात के समय, आने वाले  दिनों में मिलने की योजना बनाई जा सकती है।

 

  1. मुझे कोई शिकायत नहीं है। मैं दैनिक व्यायाम सहित अपने सभी काम कर रहा हूँ और यहाँ तक कि रोज़ बैडमिंटन भी खेल रहा हूँ। क्या मुझे वास्तव में इन सभी दवाओं को जारी रखने की जरूरत है?

यह बहुत अच्छी बात है कि आपकी ज़िन्दगी एंजियोप्लास्टी के बाद काफी अच्छी हो गई है, लेकिन कभी भी अपने ह्रदय विशेषज्ञ से पूछे बिना दिल की दवाओं को बंद ना करें। ये दवाऐं से दिल के दौरे के वापस होने के जोखिम को कम करतीं  हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि वे आपको लगाए हुए स्टेंट में वापस ब्लॉकेज होने के खतरे (जो कि कभी कभी जानलेवा हो सकता है) को भी कम करतीं है ।

 

  1. मुझे कब तक इन दवाओं को लेने की ज़रूरत है?

एंजियोप्लास्टी के बाद रक्त को पतला और वसा/चर्बी को कम करने की दवाओं को आजीवन लेना पड़ता है। लेकिन समय के साथ इन दवाओं की खुराक/डोज़ विभिन्न कारकों के आधार पर बदली जाती हैं। इसके अलावा अन्य हृदय दवाओं को भी शुरू या बंद किया जा सकता है या उनकी खुराक/डोज़ को भी आवश्यकता के अनुसार बदला जा सकता है।  संक्षेप में, आप हमेशा किसी न किसी दिल की दवाओं पर रहेंगे। इसलिए दिल की दवाओं को एक आजीवन इलाज के रूप में मान कर चलिए।

 

  1. लेकिन मुझे लगा कि एंजियोप्लास्टी करके मेरे डॉक्टर ने पूरी तरह से मेरे दिल को सामान्य कर दिया है और इसलिए अब दवाओं की कोई जरूरत नहीं रहेगी !!

यह एक बहुत ही आम लेकिन गलत धारणा है। एंजियोप्लास्टी से केवल आपके दिल की रक्त वाहिकाओं के  महत्वपूर्ण अवरोधों या ब्लॉकेज को खोला जाता  है। छोटे अवरोधों या ब्लॉकेज (जो भविष्य में ज़्यादा गंभीर हो सकते है) के लिए एंजियोप्लास्टी नहीं की जाती है। इसके अलावा, अगर दिल की पंपिंग शक्ति (दिल इन रुकावटों की वजह से) दिल को होने वाली क्षति या नुकसान के कारण कम हो गई है, तो यह पंपिंग शक्ति कितनी वापस आएगी इसका भी भरोसा नहीं होता है (और अधिकतर मामलों  में पम्पिंग की शक्ति में कोई ख़ास बढ़ोतरी नहीं होती है)। एंजियोप्लास्टी से हम दो लक्ष्य हासिल करतें है:

  • दिल का दौरा पड़ने के वक़्त की गई एंजियोप्लास्टी से हम दिल को होने वाले नुक्सान को रोक सकते है और मृत्यु के संकट को टाल सकते है।
  • दिल के दौरे को पुनः या फिर से होने से रोक सकते।

        (हालांकि इन दोनों की एकदम 100% गारंटी नहीं होती है)

यहाँ तक कि स्टेंट खुद भी भविष्य में अवरुद्ध या ब्लॉक हो सकता है। इस प्रकार एंजियोप्लास्टी के बाद हृदय पूरी तरह से सामान्य नहीं हो जाता है और आपको आजीवन दवाएं लेनी ज़रूरी है चाहे आप कितना ही सामान्य क्यों ना महसूस कर रहे हो।

 

  1. मैंने क्या आहार लेना चाहिए?

यह कई कारकों पर निर्भर करता है कि जैसे कि, क्या आप  मधुमेह या मोटापे से ग्रस्त हैं या आपके रक्त में वसा/चर्बी का स्तर कितना है इत्यादि। इसलिए अस्पताल से डिस्चार्ज होने के पहले एक आहार विशेषज्ञ से इस मामले में परामर्श ले लें। लेकिन, सामान्यतः, एक कम वसा वाला (विशेष रूप से ठोस वसा जैसे डालडा , घी) साधारण भारतीय मिश्रित आहार (रोटी, सब्जी, दाल, चावल) ज़्यादातर लोगों के लिए लगभग उचित आहार होगा। इसके अलावा अतिरिक्त नमक (या नमकीन खाद्य पदार्थ), डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ एवं अचार से बचें। अधिक से अधिक ताजा फल और सब्जियों का सेवन करें।  मांसाहारी आहार में, मछली सबसे अच्छा विकल्प है, वो भी करी में न कि  तला हुआ। हर रोगी के लिए उसकी ज़रुरत के अनुसार आहार कार्यक्रम या डाइट चार्ट बनाया जाना चाहिए।  रोगियों के दिल की पम्पिंग की ताक़त कम है, उन्होंने पानी / तरल पदार्थ और नमक का कम से कम इस्तेमाल करना चाहिए।

 

  1. इसके आगे मुझे नियमित व्यायाम और रोज़ाना के कार्य करने के बारे में आपकी क्या सलाह है?

यह इस बात पर निर्भर करता है कि एंजियोप्लास्टी के दौरान आपकी हालात स्थिर थी या अस्थिर, क्या एंजियोप्लास्टी करते समय कोई दुर्घटना या कॉम्प्लिकेशन हुआ था, आपके दिल की पंपिंग की ताकत कितनी है। सामान्य तौर पर, अगर आपकी हालत एंजियोप्लास्टी के दौरान पूरी तरह स्थिर थी तो उसके बाद आपको एकदम बिस्तर पर पड़े रहने की ज़रूरत नहीं। छुट्टी के बाद आप पहले कुछ दिनों के लिए पहले अपने घर के अंदर ही चलना-फिरना शुरू करें और फिर धीरे-धीरे बाहर घूमना शुरू कर सकते हैं। इस दौरान आपने अपनी घूमने-फिरने की अवधि और दूरी में धीरे-धीरे वृद्धि करनी चाहिए। अगर, किसी भी दिन पर, आपको सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, घबराहट या चक्कर लग रहा हो, तो आपको उस दिन के लिए रुक जाना चाहिए और फिर अगले दिन वापस से शुरू करना चाहिए। इस प्रकार आपको धीरे-धीरे अपनी क्षमता बढ़ानी चाहिए। अगर आपको घूमने-फिरने के समय ऊपर बताई तकलीफें बार-बार हो रही है और आप अपने व्यायाम के स्तर को इस वजह से बढ़ा नहीं पा रहे है, तो तुरंत अपने ह्रदय विशेषज्ञ को संपर्क करें ।

 

  1. यौन संबंधों के बारे में आपकी क्या राय है?

यौन गतिविधि एक व्यायाम की तरह है। तो व्यायाम के लिए ऊपर दिए गए नियम यहाँ भी लागू होते हैं। जब भी आपको सीढ़ियों पर चढ़ने में कोई तकलीफ महसूस ना हो और आप किसी भी समस्या के बिना जॉगिंग कर सकते हैं, तो फिर आप यौन संबंध शुरू करने का प्रयास कर सकते है।  लेकिन इसे शुरू करने के पहले अपने डॉक्टर से इस विषय पर चर्चा कर लें क्योंकि विभिन्न ह्रदय रोगियों में दिल की बीमारी की गंभीरता भी अलग - अलग होती है और इस कारण यौन गतिविधि में होने वाली थकान को सहन करने की क्षमता भी सभी मरीजों की अलग - अलग होती है। 

इसके अलावा, वियाग्रा या इस तरह की अन्य दवाओं को अपने चिकित्सक से परामर्श किये बगैर ना लें क्योंकि इन दवाओं को दिल की कुछ दवाओं के साथ लेना काफी खतरनाक हो सकता है।

 

  1. मुझे फिर से दिल का दौरा पड़ने का कितना खतरा है?

एक बार जब आप एक दिल का दौरा हो चुका  है, तो वह फिर से होने का खतरा बना रहता है। यह इसलिए क्योंकि दिल की नसों में चर्बी की रुकावटें बनने की प्रक्रिया शरीर में लगातार चलती रहती है, जिस कारण दिल की रक्त वाहिनियों में नए अवरोध या ब्लॉकेज बन सकते है। इसके अलावा एंजियोप्लास्टी के दौरान डाला हुआ स्टेंट खुद ही भविष्य में ब्लॉक या बंद हो सकता है। इसलिए, चाहे आपको कोई तकलीफ हो या ना हो, आप नियमित रूप से दवाईयाँ लें और अपने ह्रदय विशेषज्ञ को भी नियमित रूप से दिखाते रहे। अगर आप यह सब सही तरीके से करते रहे तो दिल का दौरा पड़ने का खतरा काफी कम हो जाता है। लेकिन याद रहे, यह खतरा कभी भी शून्य नहीं हो जाता है। इसलिए हमेशा सतर्क रहें और किसी भी तरह की तकलीफ होने पर तुरंत अपने चिकित्सक रिपोर्ट करें।

 

(अगर आपके मन में और भी कोई प्रश्न या संदेह है, तो आपके प्रश्नों को संपर्क और आपके प्रश्न विभाग में पोस्ट करें या drcbmunjewar@thefitheart.in पर मेल करें। मुझे आपकी मदद करने में खुशी होगी।)